વિસામો

એક પળ માણવા નો પ્રયાસ

मधुशाला by Harivanshrai Bachchan

मधुशाला by Harivanshrai Bachchan

मृदु भावों के अंगूरों की आज बना लाया हाला,
प्रियतम, अपने ही हाथों से आज पिलाऊँगा प्याला,
पहले भोग लगा लूँ तेरा फिर प्रसाद जग पाएगा,
सबसे पहले तेरा स्वागत करती मेरी मधुशाला।।१।

प्यास तुझे तो, विश्व तपाकर पूर्ण निकालूँगा हाला,
एक पाँव से साकी बनकर नाचूँगा लेकर प्याला,
जीवन की मधुता तो तेरे ऊपर कब का वार चुका,
आज निछावर कर दूँगा मैं तुझ पर जग की मधुशाला।।२।

प्रियतम, तू मेरी हाला है, मैं तेरा प्यासा प्याला,
अपने को मुझमें भरकर तू बनता है पीनेवाला,
मैं तुझको छक छलका करता, मस्त मुझे पी तू होता,
एक दूसरे की हम दोनों आज परस्पर मधुशाला।।३।

भावुकता अंगूर लता से खींच कल्पना की हाला,
कवि साकी बनकर आया है भरकर कविता का प्याला,
कभी न कण-भर खाली होगा लाख पिएँ, दो लाख पिएँ!
पाठकगण हैं पीनेवाले, पुस्तक मेरी मधुशाला।।४।

मधुर भावनाओं की सुमधुर नित्य बनाता हूँ हाला,
भरता हूँ इस मधु से अपने अंतर का प्यासा प्याला,
उठा कल्पना के हाथों से स्वयं उसे पी जाता हूँ,
अपने ही में हूँ मैं साकी, पीनेवाला, मधुशाला।।५।

मदिरालय जाने को घर से चलता है पीनेवला,
‘किस पथ से जाऊँ?’ असमंजस में है वह भोलाभाला,
अलग-अलग पथ बतलाते सब पर मैं यह बतलाता हूँ –
‘राह पकड़ तू एक चला चल, पा जाएगा मधुशाला।’। ६।

चलने ही चलने में कितना जीवन, हाय, बिता डाला!
‘दूर अभी है’, पर, कहता है हर पथ बतलानेवाला,
हिम्मत है न बढूँ आगे को साहस है न फिरुँ पीछे,
किंकर्तव्यविमूढ़ मुझे कर दूर खड़ी है मधुशाला।।७।

मुख से तू अविरत कहता जा मधु, मदिरा, मादक हाला,
हाथों में अनुभव करता जा एक ललित कल्पित प्याला,
ध्यान किए जा मन में सुमधुर सुखकर, सुंदर साकी का,
और बढ़ा चल, पथिक, न तुझको दूर लगेगी मधुशाला।।८।

मदिरा पीने की अभिलाषा ही बन जाए जब हाला,
अधरों की आतुरता में ही जब आभासित हो प्याला,
बने ध्यान ही करते-करते जब साकी साकार, सखे,
रहे न हाला, प्याला, साकी, तुझे मिलेगी मधुशाला।।९।

सुन, कलकल़ , छलछल़ मधुघट से गिरती प्यालों में हाला,
सुन, रूनझुन रूनझुन चल वितरण करती मधु साकीबाला,
बस आ पहुंचे, दुर नहीं कुछ, चार कदम अब चलना है,
चहक रहे, सुन, पीनेवाले, महक रही, ले, मधुशाला।।१०।

जलतरंग बजता, जब चुंबन करता प्याले को प्याला,
वीणा झंकृत होती, चलती जब रूनझुन साकीबाला,
डाँट डपट मधुविक्रेता की ध्वनित पखावज करती है,
मधुरव से मधु की मादकता और बढ़ाती मधुशाला।।११।

मेंहदी रंजित मृदुल हथेली पर माणिक मधु का प्याला,
अंगूरी अवगुंठन डाले स्वर्ण वर्ण साकीबाला,
पाग बैंजनी, जामा नीला डाट डटे पीनेवाले,
इन्द्रधनुष से होड़ लगाती आज रंगीली मधुशाला।।१२।

हाथों में आने से पहले नाज़ दिखाएगा प्याला,
अधरों पर आने से पहले अदा दिखाएगी हाला,
बहुतेरे इनकार करेगा साकी आने से पहले,
पथिक, न घबरा जाना, पहले मान करेगी मधुशाला।।१३।

लाल सुरा की धार लपट सी कह न इसे देना ज्वाला,
फेनिल मदिरा है, मत इसको कह देना उर का छाला,
दर्द नशा है इस मदिरा का विगत स्मृतियाँ साकी हैं,
पीड़ा में आनंद जिसे हो, आए मेरी मधुशाला।।१४।

जगती की शीतल हाला सी पथिक, नहीं मेरी हाला,
जगती के ठंडे प्याले सा पथिक, नहीं मेरा प्याला,
ज्वाल सुरा जलते प्याले में दग्ध हृदय की कविता है,
जलने से भयभीत न जो हो, आए मेरी मधुशाला।।१५।

बहती हाला देखी, देखो लपट उठाती अब हाला,
देखो प्याला अब छूते ही होंठ जला देनेवाला,
‘होंठ नहीं, सब देह दहे, पर पीने को दो बूंद मिले’
ऐसे मधु के दीवानों को आज बुलाती मधुशाला।।१६।

धर्मग्रन्थ सब जला चुकी है, जिसके अंतर की ज्वाला,
मंदिर, मसजिद, गिरिजे, सब को तोड़ चुका जो मतवाला,
पंडित, मोमिन, पादिरयों के फंदों को जो काट चुका,
कर सकती है आज उसी का स्वागत मेरी मधुशाला।।१७।

लालायित अधरों से जिसने, हाय, नहीं चूमी हाला,
हर्ष-विकंपित कर से जिसने, हा, न छुआ मधु का प्याला,
हाथ पकड़ लज्जित साकी को पास नहीं जिसने खींचा,
व्यर्थ सुखा डाली जीवन की उसने मधुमय मधुशाला।।१८।

बने पुजारी प्रेमी साकी, गंगाजल पावन हाला,
रहे फेरता अविरत गति से मधु के प्यालों की माला’
‘और लिये जा, और पीये जा’, इसी मंत्र का जाप करे’
मैं शिव की प्रतिमा बन बैठूं, मंदिर हो यह मधुशाला।।१९।

बजी न मंदिर में घड़ियाली, चढ़ी न प्रतिमा पर माला,
बैठा अपने भवन मुअज्ज़िन देकर मस्जिद में ताला,
लुटे ख़जाने नरपितयों के गिरीं गढ़ों की दीवारें,
रहें मुबारक पीनेवाले, खुली रहे यह मधुशाला।।२०।

बड़े बड़े पिरवार मिटें यों, एक न हो रोनेवाला,
हो जाएँ सुनसान महल वे, जहाँ थिरकतीं सुरबाला,
राज्य उलट जाएँ, भूपों की भाग्य सुलक्ष्मी सो जाए,
जमे रहेंगे पीनेवाले, जगा करेगी मधुशाला।।२१।

सब मिट जाएँ, बना रहेगा सुन्दर साकी, यम काला,
सूखें सब रस, बने रहेंगे, किन्तु, हलाहल औ’ हाला,
धूमधाम औ’ चहल पहल के स्थान सभी सुनसान बनें,
झगा करेगा अविरत मरघट, जगा करेगी मधुशाला।।२२।

भुरा सदा कहलायेगा जग में बाँका, मदचंचल प्याला,
छैल छबीला, रसिया साकी, अलबेला पीनेवाला,
पटे कहाँ से, मधु औ’ जग की जोड़ी ठीक नहीं,
जग जर्जर प्रतिदन, प्रतिक्षण, पर नित्य नवेली मधुशाला।।२३।

बिना पिये जो मधुशाला को बुरा कहे, वह मतवाला,
पी लेने पर तो उसके मुह पर पड़ जाएगा ताला,
दास द्रोहियों दोनों में है जीत सुरा की, प्याले की,
विश्वविजयिनी बनकर जग में आई मेरी मधुशाला।।२४।

हरा भरा रहता मदिरालय, जग पर पड़ जाए पाला,
वहाँ मुहर्रम का तम छाए, यहाँ होलिका की ज्वाला,
स्वर्ग लोक से सीधी उतरी वसुधा पर, दुख क्या जाने,
पढ़े मर्सिया दुनिया सारी, ईद मनाती मधुशाला।।२५।

एक बरस में, एक बार ही जगती होली की ज्वाला,
एक बार ही लगती बाज़ी, जलती दीपों की माला,
दुनियावालों, किन्तु, किसी दिन आ मदिरालय में देखो,
दिन को होली, रात दिवाली, रोज़ मनाती मधुशाला।।२६।

नहीं जानता कौन, मनुज आया बनकर पीनेवाला,
कौन अपिरिचत उस साकी से, जिसने दूध पिला पाला,
जीवन पाकर मानव पीकर मस्त रहे, इस कारण ही,
जग में आकर सबसे पहले पाई उसने मधुशाला।।२७।

बनी रहें अंगूर लताएँ जिनसे मिलती है हाला,
बनी रहे वह मिटटी जिससे बनता है मधु का प्याला,
बनी रहे वह मदिर पिपासा तृप्त न जो होना जाने,
बनें रहें ये पीने वाले, बनी रहे यह मधुशाला।।२८।

सकुशल समझो मुझको, सकुशल रहती यदि साकीबाला,
मंगल और अमंगल समझे मस्ती में क्या मतवाला,
मित्रों, मेरी क्षेम न पूछो आकर, पर मधुशाला की,
कहा करो ‘जय राम’ न मिलकर, कहा करो ‘जय मधुशाला’।।२९।

सूर्य बने मधु का विक्रेता, सिंधु बने घट, जल, हाला,
बादल बन-बन आए साकी, भूमि बने मधु का प्याला,
झड़ी लगाकर बरसे मदिरा रिमझिम, रिमझिम, रिमझिम कर,
बेलि, विटप, तृण बन मैं पीऊँ, वर्षा ऋतु हो मधुशाला।।३०।

तारक मणियों से सज्जित नभ बन जाए मधु का प्याला,
सीधा करके भर दी जाए उसमें सागरजल हाला,
मज्ञल्तऌा समीरण साकी बनकर अधरों पर छलका जाए,
फैले हों जो सागर तट से विश्व बने यह मधुशाला।।३१।

अधरों पर हो कोई भी रस जिहवा पर लगती हाला,
भाजन हो कोई हाथों में लगता रक्खा है प्याला,
हर सूरत साकी की सूरत में परिवर्तित हो जाती,
आँखों के आगे हो कुछ भी, आँखों में है मधुशाला।।३२।

पौधे आज बने हैं साकी ले ले फूलों का प्याला,
भरी हुई है जिसके अंदर पिरमल-मधु-सुरिभत हाला,
माँग माँगकर भ्रमरों के दल रस की मदिरा पीते हैं,
झूम झपक मद-झंपित होते, उपवन क्या है मधुशाला!।३३।

प्रति रसाल तरू साकी सा है, प्रति मंजरिका है प्याला,
छलक रही है जिसके बाहर मादक सौरभ की हाला,
छक जिसको मतवाली कोयल कूक रही डाली डाली
हर मधुऋतु में अमराई में जग उठती है मधुशाला।।३४।

मंद झकोरों के प्यालों में मधुऋतु सौरभ की हाला
भर भरकर है अनिल पिलाता बनकर मधु-मद-मतवाला,
हरे हरे नव पल्लव, तरूगण, नूतन डालें, वल्लरियाँ,
छक छक, झुक झुक झूम रही हैं, मधुबन में है मधुशाला।।३५।

साकी बन आती है प्रातः जब अरुणा ऊषा बाला,
तारक-मणि-मंडित चादर दे मोल धरा लेती हाला,
अगणित कर-किरणों से जिसको पी, खग पागल हो गाते,
प्रति प्रभात में पूर्ण प्रकृति में मुखिरत होती मधुशाला।।३६।

उतर नशा जब उसका जाता, आती है संध्या बाला,
बड़ी पुरानी, बड़ी नशीली नित्य ढला जाती हाला,
जीवन के संताप शोक सब इसको पीकर मिट जाते
सुरा-सुप्त होते मद-लोभी जागृत रहती मधुशाला।।३७।

अंधकार है मधुविक्रेता, सुन्दर साकी शशिबाला
किरण किरण में जो छलकाती जाम जुम्हाई का हाला,
पीकर जिसको चेतनता खो लेने लगते हैं झपकी
तारकदल से पीनेवाले, रात नहीं है, मधुशाला।।३८।

किसी ओर मैं आँखें फेरूँ, दिखलाई देती हाला
किसी ओर मैं आँखें फेरूँ, दिखलाई देता प्याला,
किसी ओर मैं देखूं, मुझको दिखलाई देता साकी
किसी ओर देखूं, दिखलाई पड़ती मुझको मधुशाला।।३९।

साकी बन मुरली आई साथ लिए कर में प्याला,
जिनमें वह छलकाती लाई अधर-सुधा-रस की हाला,
योगिराज कर संगत उसकी नटवर नागर कहलाए,
देखो कैसों-कैसों को है नाच नचाती मधुशाला।।४०।

वादक बन मधु का विक्रेता लाया सुर-सुमधुर-हाला,
रागिनियाँ बन साकी आई भरकर तारों का प्याला,
विक्रेता के संकेतों पर दौड़ लयों, आलापों में,
पान कराती श्रोतागण को, झंकृत वीणा मधुशाला।।४१।

चित्रकार बन साकी आता लेकर तूली का प्याला,
जिसमें भरकर पान कराता वह बहु रस-रंगी हाला,
मन के चित्र जिसे पी-पीकर रंग-बिरंगे हो जाते,
चित्रपटी पर नाच रही है एक मनोहर मधुशाला।।४२।

घन श्यामल अंगूर लता से खिंच खिंच यह आती हाला,
अरूण-कमल-कोमल कलियों की प्याली, फूलों का प्याला,
लोल हिलोरें साकी बन बन माणिक मधु से भर जातीं,
हंस मज्ञल्तऌा होते पी पीकर मानसरोवर मधुशाला।।४३।

हिम श्रेणी अंगूर लता-सी फैली, हिम जल है हाला,
चंचल नदियाँ साकी बनकर, भरकर लहरों का प्याला,
कोमल कूर-करों में अपने छलकाती निशिदिन चलतीं,
पीकर खेत खड़े लहराते, भारत पावन मधुशाला।।४४।

धीर सुतों के हृदय रक्त की आज बना रक्तिम हाला,
वीर सुतों के वर शीशों का हाथों में लेकर प्याला,
अति उदार दानी साकी है आज बनी भारतमाता,
स्वतंत्रता है तृषित कालिका बलिवेदी है मधुशाला।।४५।

दुतकारा मस्जिद ने मुझको कहकर है पीनेवाला,
ठुकराया ठाकुरद्वारे ने देख हथेली पर प्याला,
कहाँ ठिकाना मिलता जग में भला अभागे काफिर को?
शरणस्थल बनकर न मुझे यदि अपना लेती मधुशाला।।४६।

पथिक बना मैं घूम रहा हूँ, सभी जगह मिलती हाला,
सभी जगह मिल जाता साकी, सभी जगह मिलता प्याला,
मुझे ठहरने का, हे मित्रों, कष्ट नहीं कुछ भी होता,
मिले न मंदिर, मिले न मस्जिद, मिल जाती है मधुशाला।।४७।

सजें न मस्जिद और नमाज़ी कहता है अल्लाताला,
सजधजकर, पर, साकी आता, बन ठनकर, पीनेवाला,
शेख, कहाँ तुलना हो सकती मस्जिद की मदिरालय से
चिर विधवा है मस्जिद तेरी, सदा सुहागिन मधुशाला।।४८।

बजी नफ़ीरी और नमाज़ी भूल गया अल्लाताला,
गाज गिरी, पर ध्यान सुरा में मग्न रहा पीनेवाला,
शेख, बुरा मत मानो इसको, साफ़ कहूँ तो मस्जिद को
अभी युगों तक सिखलाएगी ध्यान लगाना मधुशाला!।४९।

मुसलमान औ’ हिन्दू है दो, एक, मगर, उनका प्याला,
एक, मगर, उनका मदिरालय, एक, मगर, उनकी हाला,
दोनों रहते एक न जब तक मस्जिद मन्दिर में जाते,
बैर बढ़ाते मस्जिद मन्दिर मेल कराती मधुशाला!।५०।

कोई भी हो शेख नमाज़ी या पंडित जपता माला,
बैर भाव चाहे जितना हो मदिरा से रखनेवाला,
एक बार बस मधुशाला के आगे से होकर निकले,
देखूँ कैसे थाम न लेती दामन उसका मधुशाला!।५१।

और रसों में स्वाद तभी तक, दूर जभी तक है हाला,
इतरा लें सब पात्र न जब तक, आगे आता है प्याला,
कर लें पूजा शेख, पुजारी तब तक मस्जिद मन्दिर में
घूँघट का पट खोल न जब तक झाँक रही है मधुशाला।।५२।

आज करे परहेज़ जगत, पर, कल पीनी होगी हाला,
आज करे इन्कार जगत पर कल पीना होगा प्याला,
होने दो पैदा मद का महमूद जगत में कोई, फिर
जहाँ अभी हैं मन्िदर मस्जिद वहाँ बनेगी मधुशाला।।५३।

यज्ञ अग्नि सी धधक रही है मधु की भटठी की ज्वाला,
ऋषि सा ध्यान लगा बैठा है हर मदिरा पीने वाला,
मुनि कन्याओं सी मधुघट ले फिरतीं साकीबालाएँ,
किसी तपोवन से क्या कम है मेरी पावन मधुशाला।।५४।

सोम सुरा पुरखे पीते थे, हम कहते उसको हाला,
द्रोणकलश जिसको कहते थे, आज वही मधुघट आला,
वेदिवहित यह रस्म न छोड़ो वेदों के ठेकेदारों,
युग युग से है पुजती आई नई नहीं है मधुशाला।।५५।

वही वारूणी जो थी सागर मथकर निकली अब हाला,
रंभा की संतान जगत में कहलाती ‘साकीबाला’,
देव अदेव जिसे ले आए, संत महंत मिटा देंगे!
किसमें कितना दम खम, इसको खूब समझती मधुशाला।।५६।

कभी न सुन पड़ता, ‘इसने, हा, छू दी मेरी हाला’,
कभी न कोई कहता, ‘उसने जूठा कर डाला प्याला’,
सभी जाति के लोग यहाँ पर साथ बैठकर पीते हैं,
सौ सुधारकों का करती है काम अकेले मधुशाला।।५७।

श्रम, संकट, संताप, सभी तुम भूला करते पी हाला,
सबक बड़ा तुम सीख चुके यदि सीखा रहना मतवाला,
व्यर्थ बने जाते हो हिरजन, तुम तो मधुजन ही अच्छे,
ठुकराते हिर मंिदरवाले, पलक बिछाती मधुशाला।।५८।

एक तरह से सबका स्वागत करती है साकीबाला,
अज्ञ विज्ञ में है क्या अंतर हो जाने पर मतवाला,
रंक राव में भेद हुआ है कभी नहीं मदिरालय में,
साम्यवाद की प्रथम प्रचारक है यह मेरी मधुशाला।।५९।

बार बार मैंने आगे बढ़ आज नहीं माँगी हाला,
समझ न लेना इससे मुझको साधारण पीने वाला,
हो तो लेने दो ऐ साकी दूर प्रथम संकोचों को,
मेरे ही स्वर से फिर सारी गूँज उठेगी मधुशाला।।६०।

कल? कल पर विश्वास किया कब करता है पीनेवाला
हो सकते कल कर जड़ जिनसे फिर फिर आज उठा प्याला,
आज हाथ में था, वह खोया, कल का कौन भरोसा है,
कल की हो न मुझे मधुशाला काल कुटिल की मधुशाला।।६१।

आज मिला अवसर, तब फिर क्यों मैं न छकूँ जी-भर हाला
आज मिला मौका, तब फिर क्यों ढाल न लूँ जी-भर प्याला,
छेड़छाड़ अपने साकी से आज न क्यों जी-भर कर लूँ,
एक बार ही तो मिलनी है जीवन की यह मधुशाला।।६२।

आज सजीव बना लो, प्रेयसी, अपने अधरों का प्याला,
भर लो, भर लो, भर लो इसमें, यौवन मधुरस की हाला,
और लगा मेरे होठों से भूल हटाना तुम जाओ,
अथक बनू मैं पीनेवाला, खुले प्रणय की मधुशाला।।६३।

सुमुखी तुम्हारा, सुन्दर मुख ही, मुझको कन्चन का प्याला
छलक रही है जिसमंे माणिक रूप मधुर मादक हाला,
मैं ही साकी बनता, मैं ही पीने वाला बनता हूँ
जहाँ कहीं मिल बैठे हम तुम़ वहीं गयी हो मधुशाला।।६४।

दो दिन ही मधु मुझे पिलाकर ऊब उठी साकीबाला,
भरकर अब खिसका देती है वह मेरे आगे प्याला,
नाज़, अदा, अंदाजों से अब, हाय पिलाना दूर हुआ,
अब तो कर देती है केवल फ़र्ज़ -अदाई मधुशाला।।६५।

छोटे-से जीवन में कितना प्यार करुँ, पी लूँ हाला,
आने के ही साथ जगत में कहलाया ‘जानेवाला’,
स्वागत के ही साथ विदा की होती देखी तैयारी,
बंद लगी होने खुलते ही मेरी जीवन-मधुशाला।।६६।

क्या पीना, निर्द्वन्द न जब तक ढाला प्यालों पर प्याला,
क्या जीना, निरंिचत न जब तक साथ रहे साकीबाला,
खोने का भय, हाय, लगा है पाने के सुख के पीछे,
मिलने का आनंद न देती मिलकर के भी मधुशाला।।६७।

मुझे पिलाने को लाए हो इतनी थोड़ी-सी हाला!
मुझे दिखाने को लाए हो एक यही छिछला प्याला!
इतनी पी जीने से अच्छा सागर की ले प्यास मरुँ,
सिंधँु-तृषा दी किसने रचकर बिंदु-बराबर मधुशाला।।६८।

क्या कहता है, रह न गई अब तेरे भाजन में हाला,
क्या कहता है, अब न चलेगी मादक प्यालों की माला,
थोड़ी पीकर प्यास बढ़ी तो शेष नहीं कुछ पीने को,
प्यास बुझाने को बुलवाकर प्यास बढ़ाती मधुशाला।।६९।

लिखी भाग्य में जितनी बस उतनी ही पाएगा हाला,
लिखा भाग्य में जैसा बस वैसा ही पाएगा प्याला,
लाख पटक तू हाथ पाँव, पर इससे कब कुछ होने का,
लिखी भाग्य में जो तेरे बस वही मिलेगी मधुशाला।।७०।

कर ले, कर ले कंजूसी तू मुझको देने में हाला,
दे ले, दे ले तू मुझको बस यह टूटा फूटा प्याला,
मैं तो सब्र इसी पर करता, तू पीछे पछताएगी,
जब न रहूँगा मैं, तब मेरी याद करेगी मधुशाला।।७१।

ध्यान मान का, अपमानों का छोड़ दिया जब पी हाला,
गौरव भूला, आया कर में जब से मिट्टी का प्याला,
साकी की अंदाज़ भरी झिड़की में क्या अपमान धरा,
दुनिया भर की ठोकर खाकर पाई मैंने मधुशाला।।७२।

क्षीण, क्षुद्र, क्षणभंगुर, दुर्बल मानव मिटटी का प्याला,
भरी हुई है जिसके अंदर कटु-मधु जीवन की हाला,
मृत्यु बनी है निर्दय साकी अपने शत-शत कर फैला,
काल प्रबल है पीनेवाला, संसृति है यह मधुशाला।।७३।

प्याले सा गढ़ हमें किसी ने भर दी जीवन की हाला,
नशा न भाया, ढाला हमने ले लेकर मधु का प्याला,
जब जीवन का दर्द उभरता उसे दबाते प्याले से,
जगती के पहले साकी से जूझ रही है मधुशाला।।७४।

अपने अंगूरों से तन में हमने भर ली है हाला,
क्या कहते हो, शेख, नरक में हमें तपाएगी ज्वाला,
तब तो मदिरा खूब खिंचेगी और पिएगा भी कोई,
हमें नमक की ज्वाला में भी दीख पड़ेगी मधुशाला।।७५।

यम आएगा लेने जब, तब खूब चलूँगा पी हाला,
पीड़ा, संकट, कष्ट नरक के क्या समझेगा मतवाला,
क्रूर, कठोर, कुटिल, कुविचारी, अन्यायी यमराजों के
डंडों की जब मार पड़ेगी, आड़ करेगी मधुशाला।।७६।

यदि इन अधरों से दो बातें प्रेम भरी करती हाला,
यदि इन खाली हाथों का जी पल भर बहलाता प्याला,
हानि बता, जग, तेरी क्या है, व्यर्थ मुझे बदनाम न कर,
मेरे टूटे दिल का है बस एक खिलौना मधुशाला।।७७।

याद न आए दूखमय जीवन इससे पी लेता हाला,
जग चिंताओं से रहने को मुक्त, उठा लेता प्याला,
शौक, साध के और स्वाद के हेतु पिया जग करता है,
पर मै वह रोगी हूँ जिसकी एक दवा है मधुशाला।।७८।

गिरती जाती है दिन प्रतिदन प्रणयनी प्राणों की हाला
भग्न हुआ जाता दिन प्रतिदन सुभगे मेरा तन प्याला,
रूठ रहा है मुझसे रूपसी, दिन दिन यौवन का साकी
सूख रही है दिन दिन सुन्दरी, मेरी जीवन मधुशाला।।७९।

यम आयेगा साकी बनकर साथ लिए काली हाला,
पी न होश में फिर आएगा सुरा-विसुध यह मतवाला,
यह अंितम बेहोशी, अंतिम साकी, अंतिम प्याला है,
पथिक, प्यार से पीना इसको फिर न मिलेगी मधुशाला।८०।

ढलक रही है तन के घट से, संगिनी जब जीवन हाला
पत्र गरल का ले जब अंतिम साकी है आनेवाला,
हाथ स्पर्श भूले प्याले का, स्वाद सुरा जीव्हा भूले
कानो में तुम कहती रहना, मधु का प्याला मधुशाला।।८१।

मेरे अधरों पर हो अंितम वस्तु न तुलसीदल प्याला
मेरी जीव्हा पर हो अंतिम वस्तु न गंगाजल हाला,
मेरे शव के पीछे चलने वालों याद इसे रखना
राम नाम है सत्य न कहना, कहना सच्ची मधुशाला।।८२।

मेरे शव पर वह रोये, हो जिसके आंसू में हाला
आह भरे वो, जो हो सुरिभत मदिरा पी कर मतवाला,
दे मुझको वो कान्धा जिनके पग मद डगमग होते हों
और जलूं उस ठौर जहां पर कभी रही हो मधुशाला।।८३।

और चिता पर जाये उंढेला पत्र न घ्रित का, पर प्याला
कंठ बंधे अंगूर लता में मध्य न जल हो, पर हाला,
प्राण प्रिये यदि श्राध करो तुम मेरा तो ऐसे करना
पीने वालांे को बुलवा कऱ खुलवा देना मधुशाला।।८४।

नाम अगर कोई पूछे तो, कहना बस पीनेवाला
काम ढालना, और ढालना सबको मदिरा का प्याला,
जाति प्रिये, पूछे यदि कोई कह देना दीवानों की
धर्म बताना प्यालों की ले माला जपना मधुशाला।।८५।

ज्ञात हुआ यम आने को है ले अपनी काली हाला,
पंिडत अपनी पोथी भूला, साधू भूल गया माला,
और पुजारी भूला पूजा, ज्ञान सभी ज्ञानी भूला,
किन्तु न भूला मरकर के भी पीनेवाला मधुशाला।।८६।

यम ले चलता है मुझको तो, चलने दे लेकर हाला,
चलने दे साकी को मेरे साथ लिए कर में प्याला,
स्वर्ग, नरक या जहाँ कहीं भी तेरा जी हो लेकर चल,
ठौर सभी हैं एक तरह के साथ रहे यदि मधुशाला।।८७।

पाप अगर पीना, समदोषी तो तीनों – साकी बाला,
नित्य पिलानेवाला प्याला, पी जानेवाली हाला,
साथ इन्हें भी ले चल मेरे न्याय यही बतलाता है,
कैद जहाँ मैं हूँ, की जाए कैद वहीं पर मधुशाला।।८८।

शांत सकी हो अब तक, साकी, पीकर किस उर की ज्वाला,
‘और, और’ की रटन लगाता जाता हर पीनेवाला,
कितनी इच्छाएँ हर जानेवाला छोड़ यहाँ जाता!
कितने अरमानों की बनकर कब्र खड़ी है मधुशाला।।८९।

जो हाला मैं चाह रहा था, वह न मिली मुझको हाला,
जो प्याला मैं माँग रहा था, वह न मिला मुझको प्याला,
जिस साकी के पीछे मैं था दीवाना, न मिला साकी,
जिसके पीछे था मैं पागल, हा न मिली वह मधुशाला!।९०।

देख रहा हूँ अपने आगे कब से माणिक-सी हाला,
देख रहा हूँ अपने आगे कब से कंचन का प्याला,
‘बस अब पाया!’- कह-कह कब से दौड़ रहा इसके पीछे,
किंतु रही है दूर क्षितिज-सी मुझसे मेरी मधुशाला।।९१।

कभी निराशा का तम घिरता, छिप जाता मधु का प्याला,
छिप जाती मदिरा की आभा, छिप जाती साकीबाला,
कभी उजाला आशा करके प्याला फिर चमका जाती,
आँखिमचौली खेल रही है मुझसे मेरी मधुशाला।।९२।

‘आ आगे’ कहकर कर पीछे कर लेती साकीबाला,
होंठ लगाने को कहकर हर बार हटा लेती प्याला,
नहीं मुझे मालूम कहाँ तक यह मुझको ले जाएगी,
बढ़ा बढ़ाकर मुझको आगे, पीछे हटती मधुशाला।।९३।

हाथों में आने-आने में, हाय, फिसल जाता प्याला,
अधरों पर आने-आने में हाय, ढुलक जाती हाला,
दुनियावालो, आकर मेरी किस्मत की ख़ूबी देखो,
रह-रह जाती है बस मुझको मिलते-िमलते मधुशाला।।९४।

प्राप्य नही है तो, हो जाती लुप्त नहीं फिर क्यों हाला,
प्राप्य नही है तो, हो जाता लुप्त नहीं फिर क्यों प्याला,
दूर न इतनी हिम्मत हारुँ, पास न इतनी पा जाऊँ,
व्यर्थ मुझे दौड़ाती मरु में मृगजल बनकर मधुशाला।।९५।

मिले न, पर, ललचा ललचा क्यों आकुल करती है हाला,
मिले न, पर, तरसा तरसाकर क्यों तड़पाता है प्याला,
हाय, नियति की विषम लेखनी मस्तक पर यह खोद गई
‘दूर रहेगी मधु की धारा, पास रहेगी मधुशाला!’।९६।

मदिरालय में कब से बैठा, पी न सका अब तक हाला,
यत्न सहित भरता हूँ, कोई किंतु उलट देता प्याला,
मानव-बल के आगे निर्बल भाग्य, सुना विद्यालय में,
‘भाग्य प्रबल, मानव निर्बल’ का पाठ पढ़ाती मधुशाला।।९७।

किस्मत में था खाली खप्पर, खोज रहा था मैं प्याला,
ढूँढ़ रहा था मैं मृगनयनी, किस्मत में थी मृगछाला,
किसने अपना भाग्य समझने में मुझसा धोखा खाया,
किस्मत में था अवघट मरघट, ढूँढ़ रहा था मधुशाला।।९८।

उस प्याले से प्यार मुझे जो दूर हथेली से प्याला,
उस हाला से चाव मुझे जो दूर अधर से है हाला,
प्यार नहीं पा जाने में है, पाने के अरमानों में!
पा जाता तब, हाय, न इतनी प्यारी लगती मधुशाला।।९९।

साकी के पास है तिनक सी श्री, सुख, संपित की हाला,
सब जग है पीने को आतुर ले ले किस्मत का प्याला,
रेल ठेल कुछ आगे बढ़ते, बहुतेरे दबकर मरते,
जीवन का संघर्ष नहीं है, भीड़ भरी है मधुशाला।।१००।

साकी, जब है पास तुम्हारे इतनी थोड़ी सी हाला,
क्यों पीने की अभिलषा से, करते सबको मतवाला,
हम पिस पिसकर मरते हैं, तुम छिप छिपकर मुसकाते हो,
हाय, हमारी पीड़ा से है क्रीड़ा करती मधुशाला।।१०१।

साकी, मर खपकर यदि कोई आगे कर पाया प्याला,
पी पाया केवल दो बूंदों से न अधिक तेरी हाला,
जीवन भर का, हाय, पिरश्रम लूट लिया दो बूंदों ने,
भोले मानव को ठगने के हेतु बनी है मधुशाला।।१०२।

जिसने मुझको प्यासा रक्खा बनी रहे वह भी हाला,
जिसने जीवन भर दौड़ाया बना रहे वह भी प्याला,
मतवालों की जिहवा से हैं कभी निकलते शाप नहीं,
दुखी बनाय जिसने मुझको सुखी रहे वह मधुशाला!।१०३।

नहीं चाहता, आगे बढ़कर छीनूँ औरों की हाला,
नहीं चाहता, धक्के देकर, छीनूँ औरों का प्याला,
साकी, मेरी ओर न देखो मुझको तिनक मलाल नहीं,
इतना ही क्या कम आँखों से देख रहा हूँ मधुशाला।।१०४।

मद, मदिरा, मधु, हाला सुन-सुन कर ही जब हूँ मतवाला,
क्या गति होगी अधरों के जब नीचे आएगा प्याला,
साकी, मेरे पास न आना मैं पागल हो जाऊँगा,
प्यासा ही मैं मस्त, मुबारक हो तुमको ही मधुशाला।।१०५।

क्या मुझको आवश्यकता है साकी से माँगूँ हाला,
क्या मुझको आवश्यकता है साकी से चाहूँ प्याला,
पीकर मदिरा मस्त हुआ तो प्यार किया क्या मदिरा से!
मैं तो पागल हो उठता हूँ सुन लेता यदि मधुशाला।।१०६।

देने को जो मुझे कहा था दे न सकी मुझको हाला,
देने को जो मुझे कहा था दे न सका मुझको प्याला,
समझ मनुज की दुर्बलता मैं कहा नहीं कुछ भी करता,
किन्तु स्वयं ही देख मुझे अब शरमा जाती मधुशाला।।१०७।

एक समय संतुष्ट बहुत था पा मैं थोड़ी-सी हाला,
भोला-सा था मेरा साकी, छोटा-सा मेरा प्याला,
छोटे-से इस जग की मेरे स्वर्ग बलाएँ लेता था,
विस्तृत जग में, हाय, गई खो मेरी नन्ही मधुशाला!।१०८।

बहुतेरे मदिरालय देखे, बहुतेरी देखी हाला,
भाँित भाँित का आया मेरे हाथों में मधु का प्याला,
एक एक से बढ़कर, सुन्दर साकी ने सत्कार किया,
जँची न आँखों में, पर, कोई पहली जैसी मधुशाला।।१०९।

एक समय छलका करती थी मेरे अधरों पर हाला,
एक समय झूमा करता था मेरे हाथों पर प्याला,
एक समय पीनेवाले, साकी आलिंगन करते थे,
आज बनी हूँ निर्जन मरघट, एक समय थी मधुशाला।।११०।

जला हृदय की भट्टी खींची मैंने आँसू की हाला,
छलछल छलका करता इससे पल पल पलकों का प्याला,
आँखें आज बनी हैं साकी, गाल गुलाबी पी होते,
कहो न विरही मुझको, मैं हूँ चलती फिरती मधुशाला!।१११।

कितनी जल्दी रंग बदलती है अपना चंचल हाला,
कितनी जल्दी घिसने लगता हाथों में आकर प्याला,
कितनी जल्दी साकी का आकर्षण घटने लगता है,
प्रात नहीं थी वैसी, जैसी रात लगी थी मधुशाला।।११२।

बूँद बूँद के हेतु कभी तुझको तरसाएगी हाला,
कभी हाथ से छिन जाएगा तेरा यह मादक प्याला,
पीनेवाले, साकी की मीठी बातों में मत आना,
मेरे भी गुण यों ही गाती एक दिवस थी मधुशाला।।११३।

छोड़ा मैंने पथ मतों को तब कहलाया मतवाला,
चली सुरा मेरा पग धोने तोड़ा जब मैंने प्याला,
अब मानी मधुशाला मेरे पीछे पीछे फिरती है,
क्या कारण? अब छोड़ दिया है मैंने जाना मधुशाला।।११४।

यह न समझना, पिया हलाहल मैंने, जब न मिली हाला,
तब मैंने खप्पर अपनाया ले सकता था जब प्याला,
जले हृदय को और जलाना सूझा, मैंने मरघट को
अपनाया जब इन चरणों में लोट रही थी मधुशाला।।११५।

कितनी आई और गई पी इस मदिरालय में हाला,
टूट चुकी अब तक कितने ही मादक प्यालों की माला,
कितने साकी अपना अपना काम खतम कर दूर गए,
कितने पीनेवाले आए, किन्तु वही है मधुशाला।।११६।

कितने होठों को रक्खेगी याद भला मादक हाला,
कितने हाथों को रक्खेगा याद भला पागल प्याला,
कितनी शक्लों को रक्खेगा याद भला भोला साकी,
कितने पीनेवालों में है एक अकेली मधुशाला।।११७।

दर दर घूम रहा था जब मैं चिल्लाता – हाला! हाला!
मुझे न मिलता था मदिरालय, मुझे न मिलता था प्याला,
मिलन हुआ, पर नहीं मिलनसुख लिखा हुआ था किस्मत में,
मैं अब जमकर बैठ गया हँू, घूम रही है मधुशाला।।११८।

मैं मदिरालय के अंदर हूँ, मेरे हाथों में प्याला,
प्याले में मदिरालय बिंिबत करनेवाली है हाला,
इस उधेड़-बुन में ही मेरा सारा जीवन बीत गया –
मैं मधुशाला के अंदर या मेरे अंदर मधुशाला!।११९।

किसे नहीं पीने से नाता, किसे नहीं भाता प्याला,
इस जगती के मदिरालय में तरह-तरह की है हाला,
अपनी-अपनी इच्छा के अनुसार सभी पी मदमाते,
एक सभी का मादक साकी, एक सभी की मधुशाला।।१२०।

वह हाला, कर शांत सके जो मेरे अंतर की ज्वाला,
जिसमें मैं बिंिबत-प्रतिबंिबत प्रतिपल, वह मेरा प्याला,
मधुशाला वह नहीं जहाँ पर मदिरा बेची जाती है,
भेंट जहाँ मस्ती की मिलती मेरी तो वह मधुशाला।।१२१।

मतवालापन हाला से ले मैंने तज दी है हाला,
पागलपन लेकर प्याले से, मैंने त्याग दिया प्याला,
साकी से मिल, साकी में मिल अपनापन मैं भूल गया,
मिल मधुशाला की मधुता में भूल गया मैं मधुशाला।।१२२।

मदिरालय के द्वार ठोंकता किस्मत का छंछा प्याला,
गहरी, ठंडी सांसें भर भर कहता था हर मतवाला,
कितनी थोड़ी सी यौवन की हाला, हा, मैं पी पाया!
बंद हो गई कितनी जल्दी मेरी जीवन मधुशाला।।१२३।

कहाँ गया वह स्वर्गिक साकी, कहाँ गयी सुरिभत हाला,
कहँा गया स्वपिनल मदिरालय, कहाँ गया स्वर्णिम प्याला!
पीनेवालों ने मदिरा का मूल्य, हाय, कब पहचाना?
फूट चुका जब मधु का प्याला, टूट चुकी जब मधुशाला।।१२४।

अपने युग में सबको अनुपम ज्ञात हुई अपनी हाला,
अपने युग में सबको अदभुत ज्ञात हुआ अपना प्याला,
फिर भी वृद्धों से जब पूछा एक यही उज्ञल्तऌार पाया –
अब न रहे वे पीनेवाले, अब न रही वह मधुशाला!।१२५।

‘मय’ को करके शुद्ध दिया अब नाम गया उसको, ‘हाला’
‘मीना’ को ‘मधुपात्र’ दिया ‘सागर’ को नाम गया ‘प्याला’,
क्यों न मौलवी चौंकें, बिचकें तिलक-त्रिपुंडी पंिडत जी
‘मय-महिफल’ अब अपना ली है मैंने करके ‘मधुशाला’।।१२६।

कितने मर्म जता जाती है बार-बार आकर हाला,
कितने भेद बता जाता है बार-बार आकर प्याला,
कितने अर्थों को संकेतों से बतला जाता साकी,
फिर भी पीनेवालों को है एक पहेली मधुशाला।।१२७।

जितनी दिल की गहराई हो उतना गहरा है प्याला,
जितनी मन की मादकता हो उतनी मादक है हाला,
जितनी उर की भावुकता हो उतना सुन्दर साकी है,
जितना ही जो रिसक, उसे है उतनी रसमय मधुशाला।।१२८।

जिन अधरों को छुए, बना दे मस्त उन्हें मेरी हाला,
जिस कर को छूू दे, कर दे विक्षिप्त उसे मेरा प्याला,
आँख चार हों जिसकी मेरे साकी से दीवाना हो,
पागल बनकर नाचे वह जो आए मेरी मधुशाला।।१२९।

हर जिहवा पर देखी जाएगी मेरी मादक हाला
हर कर में देखा जाएगा मेरे साकी का प्याला
हर घर में चर्चा अब होगी मेरे मधुविक्रेता की
हर आंगन में गमक उठेगी मेरी सुरिभत मधुशाला।।१३०।

मेरी हाला में सबने पाई अपनी-अपनी हाला,
मेरे प्याले में सबने पाया अपना-अपना प्याला,
मेरे साकी में सबने अपना प्यारा साकी देखा,
जिसकी जैसी रुिच थी उसने वैसी देखी मधुशाला।।१३१।

यह मदिरालय के आँसू हैं, नहीं-नहीं मादक हाला,
यह मदिरालय की आँखें हैं, नहीं-नहीं मधु का प्याला,
किसी समय की सुखदस्मृति है साकी बनकर नाच रही,
नहीं-नहीं किव का हृदयांगण, यह विरहाकुल मधुशाला।।१३२।

कुचल हसरतें कितनी अपनी, हाय, बना पाया हाला,
कितने अरमानों को करके ख़ाक बना पाया प्याला!
पी पीनेवाले चल देंगे, हाय, न कोई जानेगा,
कितने मन के महल ढहे तब खड़ी हुई यह मधुशाला!।१३३।

विश्व तुम्हारे विषमय जीवन में ला पाएगी हाला
यदि थोड़ी-सी भी यह मेरी मदमाती साकीबाला,
शून्य तुम्हारी घड़ियाँ कुछ भी यदि यह गुंजित कर पाई,
जन्म सफल समझेगी जग में अपना मेरी मधुशाला।।१३४।

बड़े-बड़े नाज़ों से मैंने पाली है साकीबाला,
किलत कल्पना का ही इसने सदा उठाया है प्याला,
मान-दुलारों से ही रखना इस मेरी सुकुमारी को,
विश्व, तुम्हारे हाथों में अब सौंप रहा हूँ मधुशाला।।१३५।

पिरिशष्ट से

स्वयं नहीं पीता, औरों को, किन्तु पिला देता हाला,
स्वयं नहीं छूता, औरों को, पर पकड़ा देता प्याला,
पर उपदेश कुशल बहुतेरों से मैंने यह सीखा है,
स्वयं नहीं जाता, औरों को पहुंचा देता मधुशाला।

मैं कायस्थ कुलोदभव मेरे पुरखों ने इतना ढ़ाला,
मेरे तन के लोहू में है पचहज्ञल्तऌार प्रतिशत हाला,
पुश्तैनी अधिकार मुझे है मदिरालय के आँगन पर,
मेरे दादों परदादों के हाथ बिकी थी मधुशाला।

बहुतों के सिर चार दिनों तक चढ़कर उतर गई हाला,
बहुतों के हाथों में दो दिन छलक झलक रीता प्याला,
पर बढ़ती तासीर सुरा की साथ समय के, इससे ही
और पुरानी होकर मेरी और नशीली मधुशाला।

पित्र पक्ष में पुत्र उठाना अर्ध्य न कर में, पर प्याला
बैठ कहीं पर जाना, गंगा सागर में भरकर हाला
किसी जगह की मिटटी भीगे, तृप्ति मुझे मिल जाएगी
तर्पण अर्पण करना मुझको, पढ़ पढ़ कर के मधुशाला।

– बच्चन

Advertisements

માર્ચ 31, 2010 Posted by | કાવ્ય અને ગઝલ | Leave a comment

Mother of orphans

Mother of orphans
Personality: Sindhu Sapkal has helped fulfil the dreams of hundreds of kids. An incredible achievement for a woman who once used to beg

She enters the room with an arthritic limp, a crutch under an arm. The huge red bindi on her brow crinkles as she strains to lower herself into a chair, smoothing the folds of her nine-yard sari so typical of the attire of rural Maharashtra. Behind her a dozen children troop in, their chores and games temporarily forgotten in the excitement of a guest’s arrival at Sanmati Bal Niketan, a two-flat home for orphans at the Pune suburb Hadapsar. They surround their Mai. “I am Sindhu Sapkal,” Mai announces.

Another time, another place. The voice, quietly commanding, carries through the breeze across an open maidan in Somurdi, a remote village of Purandhar tehsil in Pune. Sindhu is addressing a crowd, the men sit hunched in front while their women listen from open doorways. Sindhu, 52, quotes poet-saints Tukaram, Namdeo, Bahinabai and Gadgebaba as she speaks of her causeÑbringing up destitute children at five institutions she has set up in Maharashtra. She asks them for donations.

The response is immediate. Sindhu’s sari pallu rapidly fills up with coins and currency notes. The village sarpanch promises a quintal of rice to her ashram, the Mamata Bal Sadan, at Kumbharvalan, home to 70 children. A shop owner offers 10 packets of glucose biscuits.

As dusk falls, Sindhu packs up for her move on the morrow to Satara district, where a meeting with gramsevaks has been scheduled. Deepak Gaikwad, the first child she took under her wing in the 1980s, is accompanying her. In his thirties now, Deepak has taken over charge of Mamata Bal Sadan from his Mai. Mai set up the sadan on a piece of land Deepak inherited from an uncle. Donating the land, Deepak “told me that had I not taken care of him, he would have been nowhere,” says Sindhu. It was the second home she built.

Mai at work and play: Sindhu with her children at one of her centres; (below) on a fund-raising drive

Like Deepak, many of the nearly 200 children Sindhu has taken care of are now grown men and women, who stand on their own feet. Again like Deepak, most of them support their Mai in her work. Uttam Yevale, 27, who grew up at Mai’s ashram at Chikhaldara at Amravati district, is a college teacher in Ahmednagar. “She is like my mother. In fact, she is my mother,” he says.

The days he is free from work, Uttam potters around Sindhu’s Gangadharbaba Chhatralaya at Guha, which houses 45 children. It is a bungalow on 10 acres all donated by former Bombay High Court judge B.G. Kolse Patil in 1997. Though he wasn’t an orphan, Patil had grown up in a home for destitutes. “It is totally selfless work,” he says. “She is a living example of what a woman can do.”

Prakash Sapkal, 24, who grew up in the Chikhaldara ashram, heads the Chhatralaya. The history graduate took up the work after failing to get a government job. “Maybe I will not get money, but all my needs are taken care of,” he says. “Besides I am proud of contributing to Mai’s work.”

The first one to be proud of Sindhu Sapkal was her father, Abhiman Sathe, an illiterate cowherd in Pimpri, who was keen to educate her, much against his wife’s wishes. So every day on the pretext of sending her out to graze the cattle, he would pack her off to the village school. “There was no money to buy a slate,” recalls Sindhu, who was then known as Chindhibai. “I practised the alphabet on thick, palm-sized leaves of the bharadi tree, using its thorns to write.”

Marriage at the age of 10 put an end to the fourth standard student’s education. The groom, Shrihari Sapkal, alias Harbaji, was 30. “I was told there are only two processions in a woman’s life. Once when she gets married and the other when she dies. Imagine my state of mind when they took me in procession to my husband’s home in Navargaon forest in Wardha,” says Sindhu. In course of time, she bore three sons. Today, she feels they were born out of the coercive consummation of her marriage.

Sindhu created a sensation in Navargaon in 1972 when she demanded that the forest department pay the village women for the cow dung they collected. The department used to auction the dung to landlords and pocket the cash. “We won the fight,” says Sindhu.

The taste of success was sweet, but it broke up her family. She claims that an annoyed landlord, Damdaji Asatkar, spread the rumour that the child she was carrying was his. “My husband decided to abandon me,” says Sindhu. She was beaten up and dumped in a cow shed, where her daughter, Mamata, was born. “It was October 14, 1973,” Sindhu intones. “I cut the umbilical cord with a sharp-edged stone lying nearby.”

A day at Mai’s ashrams: (From right) Kids study, pray and play

She later sought shelter at her parental home, but “my mother told me to get lost. ‘Go and die on the railway line,’ she said.” Sindhu wandered from town to town, singing and begging near temples. In Faijpur, Jalgaon district, she left Mamata in the care of a temple priest’s family while she moved around singing bhajans. “Those were the days of soul-searching. I began feeling I must do something for those suffering like me.”

The idea was just taking root when she found herself in Chikhaldara. A section of the Melghat jungles on the border of Maharashtra and Madhya Pradesh had been earmarked for a tiger project. It meant people from 84 villages would have to be evacuated. “I reached there on a very dramatic day,” says Sindhu. A project officer impounded 132 cows of the Adivasi villagers of Koha. “For three days he did not free them; one cow died. The Adivasis stood looking at their cows helplessly. That day I decided to take up their cause.”

Sindhu fought for the rehabilitation of the 84 villages. In the course of her agitation, she met Chhedilal Gupta, the then minister of forests. He agreed that the villagers ought not to be displaced before the government had made appropriate arrangements at alternative sites. When Prime Minister Indira Gandhi arrived to inaugurate the tiger project, Sindhu showed her photographs of an Adivasi who had lost his eyes to a wild bear. “I told her that the forest department paid compensation if a cow or a hen was killed by a wild animal, so why not a human being? She immediately ordered compensation.”

That made people look upon her with admiration. Soon she realised the plight of orphaned and abandoned Adivasi children. Initially, looking after them was a source of livelihood. It didn’t take long for it to become the mission of her life.

Beginning with her first ashram at Chikhaldara, which she says was “a creation of necessity”, she went on to set up five homes, her work taking on a momentum of its own. Abhiman Bal Bhavan in Wardha district, for instance, came about when in recognition of her work, her husband’s relatives in Wardha felicitated her.

A home for destitute women, the Nadarmai Mahila Adhar Kendra, functions out of the same building that houses orphans at Chikhaldara. Her homes survive on donations and grants, and she unabashedly begs village after village to put whatever they can into a cloth she spreads out on a table after her speech.

At the Krantijyot Savitribai Phule Hostel for girls at Chikhaldara, 42 of the 50 inmates receive a grant of Rs 335 a month. “We bear the other girls’ expenses,” says Sindhu’s son Arun Sapkal, who heads the institution and is a co-opted BJP municipal councillor. With money from Arun’s curio business and money sent by Sindhu, the inmates get by.

Oh God, teach us how to laugh; but let us not forget that we had also cried once upon a time.’ The words are etched on the wall behind Sindhu’s chair at the Sanmati Bal Niketan.

For Mai’s children, the sorrow of being abandoned or orphaned gradually fades from memory as they follow the home’s regimen. The children are divided into batches which alternately study, work and play. At the Kumbharvalan Ashram, if one group is in the classroom, another will be tending the tomatoes and chillies in the gardens. At the Gangadharbaba ashram, the kids even grow wheat.

We grow our own vegetables: Mai and her
children in the fields

The boys and girls are segregated after the 8th standard. While the boys go to Gangadharbaba ashram, the girls are sent to the girls’ hostel at Chikhaldara. There are exceptions. Vishwas Chaphale, 14, stayed on at the Kumbharvalan ashram to help look after the small children, who run to him to get their cuts and bruises bandaged. For a boy who wants to become a doctor, he is starting young.

Quite a few people opt to live and work for Mai. Babasaheb Dushing, 35, left his job as a hotel watchman in 1997. After his wife’s death he had sent his children to Sindhu. “But then I realised I could not stay away from them,” he says. “So I asked Sindhutai if I could come here.” Ever since, Dushing has been working at the Kumbharvalan ashram.

Some of the destitute women who land up at Mahila Aadhar Kendra are sent as gruhamata (mother of the house) to the children’s homes. Kavita Gavand and Lalita Magar are gruhamatas at the Chhatralaya at Guha. While Lalita is a widow, Kavita walked out on her alcoholic and abusive husband. Their children do not stay with them, but at the ashrams in Kumbharvalan and Hadapsar. “It was a deliberate decision to keep the children away,” says Deepak Gaikwad. “Most of our children are either orphans or abandoned. What will they feel if some children began staying with their mothers?” Vacation time, however, reunites the kids with their mothers.

Although the children are not given in adoption, there have been cases where couples come forward to sponsor them. Udaysinh Mohite Patil and his wife, Swaymprabhadevi, have undertaken the responsibility of educating Pawan, who lives with them in Akluj, Solapur district. “My wife had organised one of Sindhutai’s functions in our village some five years ago,” says Patil. After Sindhu’s talk, Swaymprabhadevi decided that they would contribute by sponsoring a child’s education. “He studies here and goes to Sindhutai during vacation,” says Patil. The couple have decided to sponsor another child as soon as Pawan completes his studies.

Sindhu’s work has won her 48 awards, the most prominent being the Maharashtra government’s Savitribai Phule award in 1998. It attracted some controversy, too. Critics claim that Sindhu lobbied for the award and was finally nominated from Buldana district, where she does not even have an ashram. Sindhu pooh-poohs the charge. “Had I lobbied, I would not have argued with them at the award ceremony about the paltry sum of Rs 5,000 they were giving,” she argues. “I would have been obliged to accept whatever they gave me and keep my mouth shut.” Sindhu’s creating a scene, however, worked as the then deputy chief minister Gopinath Munde raised the amount to Rs 11,000. “As regards Buldana district, even today I do not know how the government put me there,” she says. “I never claimed that I worked there.”

However, no amount of controversy can detract from the achievements of a woman who at one time lived on alms. So inspiring has her life been that the Karnataka government included a chapter from her autobiography Mee Vanvasi, released in 1988, in its Marathi textbook for 10th standard students.

Today Sindhu proudly states that she has 36 daughters-in-law and 177 sons-in-law. Most of her children are well placed in life. Sham Randive is a lecturer in history at Mhasvad in Satara district. Seema Kokare is an Ayurvedic doctor and settled in Aurangabad. The list goes on. But at 52, Sindhu says she still has plenty more to accomplish. “Let me tell you I am not Devaki who gave birth to Lord Krishna, I am just trying to be a perfect Yashoda.”

Interview/Sindhu Sapkal
Hunger made me speak

How did you begin social work?
I first went to Chikhaldara begging for bhakri (bajra roti) in 1975. Unable to feed myself and my two-year-old daughter, I had almost decided to commit suicide. I was standing under a tree when suddenly its stem caught my attention; I noticed that it had been badly axed, but it was still giving me shade. I almost screamed, ‘No I will not die’. I decided to take care of the orphaned children of Adivasis. It is common among them for a man to desert his wife for another woman; the woman then remarries, sometimes abandoning the children. Initially I took care of the children in return for some kutki [a kind of rice], dal and buttermilk.

You speak so well at public meetings.
When I used to beg at railway stations, initially I would only sing. Later I thought if I started speaking I could earn more. I used to be so hungry. My hunger taught me to speak and the pain within me taught me to sing.

Who are your idols?
I draw inspiration from saints like Sant Gadgebaba, Rashtra Sant Tukdoji Maharaj and Bahinabai Chaudhari. Among the gods, I like Lord Krishna. I don’t like Ram, I have an ongoing feud with him because he deserted Sita. I also like Veer Savarkar.

Have any children run away from your ashrams?
Fortunately not. Even when I convinced people to adopt my children, they did not stay with them, because they call me Mai and know that a mother cannot be replaced. The children have been very cooperative. Whenever I brought home new kids, I told the others they might have to drink dal instead of eating it, since it would be more diluted. But they never complained. Many children are married now. Today I can proudly say I have 36 daughters-in-law and 177 sons-in-law. I have always been more protective of girls.

Would you like to return to your husband?
I cannot be a wife again. But if my husband comes to me as a child, I will serve him. I am not angry with him, he was not educated, it is not his fault. Had my husband not abandoned me, all this work would not have happened.

Picking holes in Sindhu’s tale
Sindhu Sapkal’s 70-year-old husband, Shrihari, today lives in Malegaon Theka village in Wardha. Still a cowherd who periodically goes into the jungle, he and sons Amrut, Arun and Sanjay left Navargaon forest two years after Sindhu’s departure. “Apart from petty marital differences which are there between every husband and wife, there was no dispute between us,” says the wrinkled old man who Sindhu claims threw her out of the house in 1973.

Shrihari has a different version. “It was a day of great embarrassment for me when she left home,” he says. “My community asked me to marry again, but I refused as I had decided to look after the children.”

He can scarcely connect Sindhu the social worker with the woman who was once his wife. “She was so simple,” he says. “She has done so much for others, but could not provide us with a proper shelter,” says Shrihari. “Just last year, I constructed this house. I never thought of going to her.”

Shrihari says Sindhu fell out with local landlord Damdaji Asatkar over a piece of land. “But he did not harass her.” Asatkar’s son Vinod, who lives in Navargaon, elaborates: “Her father originally belonged to our village, and used to till the forest land. But after he shifted to Pimpri, the forest authorities gave us the land. And when Sindhutai came here after her marriage, she demanded the land back.”

However, just like the other villagers, Vinod also admires Sindhu, and feels indebted to her and her cow dung agitation. Nanaji Ghode, deputy sarpanch of Navargaon, says: “Today villagers get Rs 1,000 per truck [of cow dung]. We owe it to her.”

She is their mother like she is mine

Born in a cow shed in Wardha, Mamata Sapkal studied in three schools in three different districts of Maharashtra in the first five years of her schooling, and completed her graduation courtesy a temple trust in Pune, before opting to take a master’s in social work.

A bond like no other: Mamata with her mother

As Sindhutai’s fourth child, she shared her mother’s trials and sorrows from the day she was born, and is today in charge of the Sanmati Bal Niketan in Hadapsar near Pune. Unlike her mother, she prefers operating behind the scenes, liaising with the government and individuals for donations. Here she speaks about life with her Mai.

As a child, I wasn’t fortunate enough to stay with my mother. I remember the hardships she faced to get me admitted to the Seva Sadan High School in Pune, the way she was treated in a house where we happened to stay for a few days, the tears that rolled down her face time and again, the first time she gave me two rupees to buy sweets when I was appearing for my H.Sc examinations, the sleepless nights she spent when I had surgery for appendicitis. These are images from the past which instantly come to my mind when I think of her. But the picture will not be complete without orphans and destitute children she has brought up. Like me, they too belong to her and she is their mother like she is mine.

But 25 years ago the situation was different. She was all alone, begging on the streets with her child. She had no shelter, no food, and had to protect herself from the lust and cruelty of society. How she survived!

My friends in college always called her ‘Mai’. I remember asking her once if she ever felt like studying, having lots of friends and someone to confide in. She listened to me quietly and then said suddenly: “Mamata, if you are talking about the feelings and emotions which one experiences as a youth, I do not even know when it was all over for me. If you are talking just about education, I am fulfilling my desire to study through you, and in you, I have someone to confide in.” That was the moment when I felt I had grown up. Since that day our friendship has been gaining strength day by day.

In 1990, mother was in hospital, when father came to see her. There were three people standing in front of me and I did not know which one was my father. Then mother told me he was the man on the right. He spoke to me, asked me to come to Wardha, but added hastily that if I did I should say that I had come on my own and that he had not invited me. I just didn’t feel anything.

Mother’s ability to work is just amazing. She can work tirelessly for 8-10 days at a stretch. There have been times when she has travelled throughout the fortnight, come home for a while and then set out again. She is ever willing to respond to a plea for help from an orphan or a destitute. Whenever I ask her to take some rest, she refuses, saying she cannot afford to till every institution she started becomes self-sufficient.

Sometimes I force her to take rest, treat her to her favourite baingan bharta and bhakri (bajra roti). She has been a mother to so many of us. Now I want her to take rest and allow me to be her mother for a while.

માર્ચ 28, 2010 Posted by | જીવન ચરિત્ર | 4 ટિપ્પણીઓ

માર્ચ 17, 2010 Posted by | અવર્ગીકૃત | Leave a comment

funny scraps

Here are some cool funny scraps that you can use to scrap your friends and shine !

HABIT never goes
if u remove H
A-BIT remains
If u remove A
BIT remains and
IF u remove B
It still remains.
So my habit of
scrapping u
will never go.

When I was a dog, and
your were a flower
I walked over you and
gave you a shower!!

Ladka shaadi se pehle
SPIDERMAN
Sagai k Samay
SUPERMAN
Shadi k Samay
GENTLEMAN
Shadi k 10 saal baad
WATCHMAN
Shadi k 20 saal baad
DOBERMAN.

Summer Resort-
A place where girls
try to get husbands
and husbands
try to get girls.

The difference between
marriage and death?
Dead people are
free atleast!

Why is a bachelor skinny
and a married man fat?
-The Bachelor comes
home, takes one look at
what’s in the refrigerator,
and goes to bed.
-The Married man
comes home,takes one
look at what’s in the bed
and goes to refrigerator!

The poor wish to be rich
the rich wish to be happy
the single wish to be
married
and the married
wish to be dead.

Which type of girls
wear transparent dresses?
The girls not having
any confidence on
imagination power
of a man !

Teacher to Bunty:
How old is your father?
Bunty:As old as I am
Teacher: How is that
possible?
Bunty: He became father
only after I was born.

There was a lover
who said that he would go
through hell for her.
They got married-now
he is going through hell !!

The average guy is
much more interested
in a girls Geography
than her History.

A Husband:
There are only two things
about me that my wife
doesnt care about-
(i)Everything I say and
(ii)Everything I do.

Bunty invested 2 lakh
in a business and suffered
a huge loss.
– Do you know
what was the business?
– He opened a
hair cutting saloon
in Punjab!!

Man 2 Chemist:
Mujhe White colour ka
condom dena?
Chemist:White kyon?
MAn:Meri Padosan ka
pati mar gaya hai
mujhe afsos
karne jana hai.

Why do women spend
so much time on
improving their LOOKS
and not their MIND?
Because they know that
men are STUPID
but not BLIND.

Angrez-Hamare yahan
80% shaadiyan
e-mail se hoti hain
Bunty- Kamaal hai!
hamare yahan
100% shaadiyan
female se hoti hain

I’ll take bricks and write
“I MISS U” on them
and throw it on ur head
to make u feel,
how much it pains
when “I MISS U”

Cultural difference
between USA & India
In USA u can kiss at any
public place but
cant do SUSU.
In India u can SUSU
at any public place
but cant do KISS

A Judge fined a rapist
Rs. 10,800
When the man asked
why Rs. 10,800?
Judge replied-
10,000 for rape plus
8% entertainment tax.

A Sex expert was asked
whether rape is possible
while running?
No Chance!
Woman can run faster
with her skirt up than a
man with pants down.

Difference between
good girls & bad girls
Good girls open a
few buttons in
hot atmosphere, but
BAd girls open all buttons
to make the
atmosphere hot!

Father on the day of
graduation ceremony
of his son asks him-
What was the
hardest thing u learned
at College?
How to open
Beer bottles with teeth!

Who was the 1st Indian
woman 2 fly abroad?
********
********
********
Sitaji with Raavan.

Man goes 2 medical shop
Man-I need poison
Shopkeeper-I cant sell u
(MAn shows
his wife’s Photo)
Shopkeeper- Oh! Sorry!
didnt know
u had a prescription!

For a Pepsi-
Shahrukh Khan,
4 a Fanta-
Rani Mukherjee,
4 a Coke- Aamir Khan,
4 a Thumps up-
Salman Khan,
Chinta mat kar Yaar
Kanche Waali bottle teri

The boy fell in love with
a girl at
second sight
because in first sight
he didnt know that
she was very rich

God made man and
then rested
God made woman and
then no one rested

Aim for the stars
but first aim for their
bodyguards

What is the
thinnest book in the
world?
What Men know
about Women

How Dogs and Women
are alike
Neither believe that
silence is golden
Neither can balance
a checkbook
Both put too much value
on kissing

What is the difference
betwwen a woman and a magnet?
Magnets have a
positive side!

Hello I am a virus and
I am entering your brain
right now…..
sorry,
I will leave,
I cant find a brain!

One out of
four people is a Chinese
if your father,
your mother and
your brother are not
Chinese it must be you

This cat,is cat,a cat
good cat, way cat,
to cat, keep cat, a cat,
idiot cat, busy cat,
for cat, 20 cat, seconds cat!
Now read it all without the
word cat!

Those beautiful eyes,
that incredible body,
such a brain
a sexy mouth
nice smile….but that is
enough about me,
tell me how you are ?

Someday u may lose
ur hair
u may lose ur teeth
ur money & even lose
ur mind
but 1 thing u will
never loose is
ur good looks
coz u can’t lose wat
u dont have !

If you delete this scrap
thats bcoz
u love me
if u save it thats bcoz
u desire me &
if u ignore it thats becoz
u miss me
so what u gonna do
with it?

Why do u think
I scrap u?
Is it because I care?
Or I miss u?
Or I love u ?
Or I need you?
No! its becoz
I need a person for just
TIME PASS

Niche jaao aur jito
PAISE HI PAISE
……….
or niche
……….
or niche
……….
YAKIN nahin aata
“TUM” paiso k liye
itna niche gir sakte ho

Great people talk
abt ideas,
average people talk
abt things
small people talk
abt other people
and the LEGENDS
never talk they just
send scraps like this!!!

માર્ચ 17, 2010 Posted by | હસો અને હસાવો | Leave a comment